eng
competition

Text Practice Mode

बंसोड टायपिंग इन्‍स्‍टीट्यूट गुलाबरा छिन्‍दवाड़ा म0प्र0

created Nov 27th 2022, 03:23 by sachin bansod


2


Rating

406 words
17 completed
00:00
वर्तमान पुनरीक्षण याचिका में चुनौती ट्रायल कोर्ट द्वारा 24.1.2001 को पारित आदेश को दी गई है, जिसमें वादी द्वारा आदेश 11 नियम 14 सीपीसी के प्रावधानों के अनुसार रिकॉर्ड प्रस्‍तुत करने के लिए दायर आवेदन को अनुमति दी गई थी, ताकि वादी को समर्थ बनाया जा सके। प्रभावी रूप से प्रतिवादी के लिखित बयान की प्रतिकृति दाखिल करने के लिए। वादी ने इस आशय की घोषणा के लिए एक मुकदमा दायर किया है कि वह विधिवत योग्‍य है और पंजाब सिविल सेवा (कार्यकारी शाखा) के पद के लिए परीक्षा में चयनित है और उत्‍तरदाता संख्या 3 द्वारा आयोजित पद के लिए साक्षात्‍कार, जिसके परिणाम को अस्‍वीकार कर दिया गया था 7.11.1994 को। वादी ने पीसीएस (कार्यकारी) के सदस्‍य के रूप में नियुक्ति की परिणामी राहत के साथ-साथ वरिष्‍ठता 7.11.1994 से या ऐसी अन्‍य तिथि से प्रभावी होने की भी मांग की है जब अन्‍य चयनित उम्‍मीदवारों को नियुक्‍त किया गया था। उक्‍त वाद में, प्रतिवादी ने एक लिखित बयान दायर किया, जिसकी प्रति वर्तमान पुनरीक्षण याचिका के साथ अनुबंध पी.2 के रूप में संलग्‍न की गई है। प्रतिकृति दायर करने से पहले, वादी ने इस आधार पर रिकॉर्ड पेश करने के लिए आवेदन दायर किया कि लिखित बयान अस्‍पष्‍ट है। उक्‍त आवेदन के उत्‍तर में, आयोग का यह मत था कि वादी द्वारा उठाए गए मुद्दे आयोग की आंतरिक कार्यप्रणाली से संबंधित हैं और आंतरिक प्रक्रिया को जनहित में सार्वजनिक रूप से प्रकट नहीं किया जा सकता है। यह भी दलील दी गई है कि सिविल सूट की पोषणीयता अभी तक न्‍यायालय द्वारा निर्धारित नहीं की गई है क्‍योंकि सिविल सूट कालातीत है और पटियाला के न्यायालयों के पास सिविल सूट का मनोरंजन करने के लिए कोई क्षेत्रीय अधिकार क्षेत्र नहीं है। आगे यह तर्क दिया गया है कि लोक सेवा आयोग संवैधानिक निकाय है जैसा कि भारत के संविधान के अनुच्छेद 315 के तहत परिभाषित किया गया है और संवैधानिक दायित्‍व केवल एक संवैधानिक पीठ द्वारा निर्धारित किया जा सकता है। यह भी प्रस्‍तुत किया गया था कि उम्‍मीदवारों की परीक्षा से संबंधित पूरा रिकॉर्ड इस न्‍यायालय के समक्ष 1994 की सिविल रिट याचिका संख्या 17490 में पहले ही प्रस्‍तुत किया जा चुका है और आयोग के पास पीसीएस (कार्यकारी) के चयन से संबंधित रिकॉर्ड नहीं है और वर्ष 1994 की अन्य सेवाओं की तरह। वर्तमान पुनरीक्षण याचिका को स्‍वीकार करते हुए, इस न्‍यायालय ने 23.1.2004 को एक आदेश पारित किया, जिसमें वादी को रिकॉर्ड के निरीक्षण के लिए आवेदन करने की अनुमति दी गई।

saving score / loading statistics ...