eng
competition

Text Practice Mode

साँई कम्‍प्‍यूटर टायपिंग इंस्‍टीट्यूट गुलाबरा छिन्‍दवाड़ा म0प्र0 संचालक:- लकी श्रीवात्री मो0नां. 9098909565

created Jan 25th, 10:56 by sandhya shrivatri


2


Rating

387 words
15 completed
00:00
रात का समय था चारों और घुप्‍प अंधेरा छाया हुआ था केवल एक ही कमरा प्रकाशित था वहां चार मोमबत्तियां जल रही थी। चारों मोमबत्तियां एकांत देख आपस में बाते करने लगी। पहली मोमबत्ती बोली, मैं शांति हूं, जब मैं इस दुनिया को देखती हूं, तो बहुत दु:खी होती हूं। चारों और आप-धापी, लूट-खसोट और हिंसा का बोलबाला है, ऐसे में यहां रहना बहुत मुश्किल है, मैं अब यहा और नहीं रह सकती इतना कहकर मोमबत्ती बुझ गई।  
दूसरी मोमबत्ती भी अपने मन की बात कहने लगी, मैं विश्‍वास हूं मुझे लगता है कि झूठ धोखा, फरेब, बेईमानी मेरा वजूद खत्‍म करते जा रहे है, ये जगह अब मेरे लायक नहीं रही मैं भी जा रही हूं, इतना कहकर दूसरी मोमबत्ती भी बुझ गई।  
तीसरी मोमबत्ती भी दु:खी थी। वह बोली मैं प्रेम हूं, मै हर किसी के लिए हर पल जल सकती हैू, लेकिन अब किसी के पास मेरे लिए वक्‍त नहीं बचा। स्‍वार्थ और नफरत का भाव मेरा स्‍थान लेता जा है। लोगों के मन में अपनों के प्रति भी प्रेम-भावना नहीं बची। अब ये सहना मेरे बस की बात नहीं मेरे लिए जाना ही ठीक होगा कहकर तीसरी मोमबत्ती भी बुझ गई। तीसरी बत्ती बुझी ही थी कि कमरे में एक बालक ने प्रवेश किया। मोमबत्ती को बुझा हुआ देख उसे बहुत दु:ख हुआ उसकी आंखो से आंसू बहने लगे दु:खी मन से वो बोला, इस तरह बीच में ही मेरे जीवन में अंधेरा कर कैसे जा सकती हो तुम तो अंत तक पूरा जलना था। लेकिन तुमने मेरा साथ छोड़ दिया, अब मैं क्‍या करूंगा। बालक की बात सुन चौथी मोमबत्ती बोल, घबराओं नहीं बालक मैं आशा हूं और मैं तुम्‍हारे साथ हूं, जब तक मैं जल रही हूं तुम मेरी लौ से दूसरी मोमबत्ती को जला सकते हो। चौथी मोमबत्ती की बात सुनकर बालक का ढाढस बंध गया। उसने आशा के साथ शांति विश्‍वास और प्रेम को पुन: प्रकाशित कर लिया।  
सीख- जीवन में समय एक सा नहीं रहता कभी उजाला रहता है, तो कभी अंधेरा। जब जीवन में अंधकार आये, मन अशांत हो जाये, विश्‍वास डगमगाने लगे ओर दुनिया पराई लगने लगे, तब आशा का दीपक जला लेना जब तक आशा का दीपक जलता रहेगा, जीवन में कभी अंधेरा नहीं हो सकता। आशा के बल पर जीवन में सबकुल पाया जा सकता है इसलिए आशा का साथ कभी ना छोड़े।  
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

saving score / loading statistics ...