eng
competition

Text Practice Mode

इन्सक्रिप्ट टाइपिंग उत्तर प्रदेश गोपनिय विभाग (7677760242 RAJEEV KUMAR)

created Jan 14th, 14:17 by rajeevkumar


1


Rating

667 words
0 completed
00:00
सबसे बड़ी बात है कि अंतरिक्ष केंद्र पर अब यात्री यथासंभव आनंद भी करने लगे हैं। सितंबर महीने में एक अंतरिक्ष यात्री मेगन मैक्आर्थर का वीडियो वायरल हुआ था, जब उन्होंने एक वीडियो शेयर करके बताया था कि अंतरिक्ष में कैसे शैंपू करते हैं। शैंपू करते हुए कैसे एक-एक बुंद पानी को बचाना होता है। यह भी ध्यान रखना पड़ता है कि पानी की बूंद हवा में लटक जाए। केश धोने से गंदे हुए पानी को फिर कैसे साफ कर उपयोग में लाया जाता है। वैसे तो यात्रियों को अंतरिक्ष केंद्र पर रहते वर्षों बीत गए हैं, लेकिन साल 2021 एक ऐसा वर्ष है, जब आम लोग भी अंतरिक्ष यात्रियों के जीवन से ज्यादा परिचित हुए हैं। यह यदि किसी योजना के तहत होने दिया जा रहा है, तो भी इसकी तारीफ होनी चाहिए। अंतरिक्ष का भय जैसे-जैसे कम होगा, दुनिया का लगाव अंतरिक्ष विज्ञान से वैसे-वैसे बड़ता जाएगा। क्या अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन एक पर्यटन केंद्र के रूप में चर्चित होने लगा है? इस सवाल का जवाब हां में है। विशेष रूप से इस वर्ष अरबपति और जापान के पहले अंतरिक्ष पर्यटक युसाकु मेजावा के सफल अंतरिक्ष दौरे से काफी फर्क पड़ा है। वह 8 दिसंबर को अंतरिक्ष स्टेशन की यात्रा पर गए थे और वहां 12 दिन रहने के बाद 20 दिसंबर को कजाकिस्तान में उतरे। उनके सहायक योजे हिरानो और रूसी अंतरिक्ष यात्री अलेक्जेंडर मिसुरकिन भी उनके साथ आनंद मनाकर लौटे हैं। जापानी व्यवसायी मेजावा को अंतरिक्ष स्टेशन के पहले मेहमान के रूप में याद किया जाएगा। अंतरिक्ष स्टेशन पर 12 दिन रहते हुए मेजावा अपनी अनेक गतिविधियों के वीडियो शेयर करते रहे हैं, जिन्हें दुनिया में खूब देखा गया है। मेजावा के लिए यह अभ्यास है, वह साल 2023 में चांद की सैर पर जाने वाले हैं। वह साथ ले जाने के लिए आठ सह-यात्रियों की तलाश कर रहे हैं। मतलब, अंतरिक्ष का रोमांच आने वाले दिनों में और बढ़ने वाला है।  
पंजाब के किसानों ने केंद्र सरकार को झुकाने के बाद अब राज्य की चन्नी सरकार को भी झुका दिया है। चुनावी फैसले के तहत पंजाब सरकार ने रेल पटरियों पर धरना दे रहे किसानों का दो लाख रूपये तक का कर्ज माफ करने का एलान किया है। 2,000 करोड़ रुपये सरकारी खजाने से जाएंगे। इससे पहले अगस्त में तत्कालीन मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पौने तीन लाख किसानों का सहकारी समितियों से लिया गया 590 करोड़ रूपये का कर्ज माफ किया था। पिछले पांच साल में पंजाब में कांग्रेस की सरकार इस ताजा घोषणा से पहले तक करीब साढ़े पांच लाख किसानों का 4,500 करोड़ रुपये से ज्यादा का कर्ज माफ कर चुकी है। पंजाब में कुल मिलाकर करीब, 11 लाख किसान हैं। उन पर करीब एक लाख करोड़ रुपये का कर्ज है. यानी हर किसान परिवार पर 10 लाख रुपये का कर्ज है। जाहिर है, नई कर्ज माफी से भी पंजाब का किसान कर्ज मुक्त होने वाला नहीं है, लेकिन क्या इस घोषणा से कांग्रेस की चन्नी सरकार फिर से सत्ता में जाएगी? बीते कुछ सालों में देश भर में विधानसभा चुनावों में अलग-अलग सियासी दल किसानों को कर्जमाफी की सौगात देकर वोट हासिल करते रहे हैं। पंजाब में तो यह सियासी मजबूरी भी है और आर्थिक मजबूरी भी। सियासी मजबूरी इसलिए, क्योंकि पंजाब में 80 फीसदी से ज्यादा आबादी गांवों में है और खेती पर निर्भर है। इनमें जटसिख है।
वाशिंगटन, 20 दिसम्बर। न्यूयार्क टाइम्स कहता है कि वर्तमान संघर्ष में अमेरिकन नीति का असली लक्ष्य क्या है, यह राष्ट्रपति ने बतला दिया है। वह लक्ष्य है इस बात का निश्चित और पूर्ण आश्वासन कि हिटलर की व्यवस्था को भंग कर हम सबके लिये लोकतंत्र की रक्षा के अर्थ यहां से ब्रिटेन को युद्ध-सामग्री का प्रवाह बराबर बने रहने में किसी भी वजह से हर्गिज कोई रुकावट नहीं पड़ेगी। संयुक्त राष्ट्र अमेरिका की सेना में जितने लड़ाकू विमान हैं उससे कई गुने अधिक अब वहां से ब्रिटेन को मिल रहे हैं। अधिकारी क्षेत्रों ने कल रात यह बतलाते हुए कहा कि ब्रिटेन को भेजे जाने वाले यौद्धिक विमानों का, जिनमें बमवर्षक पीछा करने वाले भी शामिल हैं।

saving score / loading statistics ...