eng
competition

Text Practice Mode

साँई कम्‍प्‍यूटर टायपिंग इंस्‍टीट्यूट गुलाबरा छिन्‍दवाड़ा म0प्र0 संचालक:- लकी श्रीवात्री मो0नां. 9098909565

created Oct 23rd, 04:04 by Jyotishrivatri


3


Rating

372 words
11 completed
00:00
आज लघुकथा एक स्‍वतंत्र विद्या के रूप में मान्‍य हैं। संक्षिप्‍त एवं अर्थगर्भित होने के कारण उसकी व्‍याप्ति अधिक है। पंचतंत्र, हितोपदेश, जातक कथाओं से लेकर खलील जिब्रान तक लघुकथा का विस्‍तार रहा है। पहले यह अधिकतर सुनी जाती थी, आज पढ़ी ज्‍यादा जाती हैं, लेकिन धीरे-धीरे सुनने की ओर लौट रही है। समयभाव के कारण पाठको को समकालीन जीवन स्थितियों, राजनीतिक विडंंबनाओं और जटिल होते जीवन को अभिव्‍यक्‍त करने के कारण इधर लघुकथाएं लोकप्रिय हो रही हैं। पाठक भी संक्षिप्‍त होने के कारण लघुकथाएं चाव से पढते हैं। राजनीतिक सामाजिक सरोकार के साथ अपने समय की बेचैनी लघुकथाओं का मूल प्रतिपाद्य होना चाहिए। बहुत संक्षेप में कई बार तो एक वाक्‍य या एक सूक्ति में बात का मर्म देना पड़ता है। दूसरें शब्‍दों में कहें- देखन में छोटे लगे, घाव करे गंभीर इसके लिए भाषा की अनावश्‍यक पच्‍चीकारी और उपदेशपरकता से बचना आवश्‍यक है, जबकि आज हो यही रहा है। इस संदर्भ में मुझे प्रचलित सबसे छोटी लघुकथा याद रही हैं जो इस तरह हैं- रेल में दो यात्री सफर कर रहे थे। एक ने दूसरे से पूछा- क्‍या तुम भूत में विश्‍वास करते हो? कहकर वो गायब हो गया। इस लघुकथा में तब की उपेक्षा की जाती थी, वह सब है- प्रारंभ, अंत, संवाद, परिवेश, भाषा आदि। लेकिन आज की लघुकथा इससे बहुत आगे चली गई। वह किसी एक ताव को लेकर भी लिखी जा रही है। असल मे कोई भी लघुकथा अपनी संक्षिप्‍तता या विस्‍तृतता के कारण नहीं बल्कि दृष्टि, विचार और अपने समय के संघर्ष और पीड़ा को अभिव्‍यक्‍त करने के कारण ही प्रभावी होती हैं। कलेवर में लघु होने के साथ यदि जीवन दृष्टि की व्‍यापकाता और सटीक भाषा हो तो जनमानस पर स्‍थायी प्रभाव छोड़ती है। लघुकथा ही नहीं, किसी भी रचना का स्‍वरूप लेखक के अंदर चलने वाले अंत:संघर्ष का परिणाम होता है, और वह संघर्ष यही कि तय करो किस ओर हो तुम? यही जनपक्षधरता किसी भी रचना की महानता तय करती है। आज यथार्थपरक लघुकथाओं की जरूरत है। ऐसी लघुकथाएं जो पाठक को गहरे तक उद्वेलित करें। यथास्थिति और अन्‍याय के खिलाफ खड़े होने को प्रेरित करें, तभी वह लघु में वृहत्तर होने की भूमिका में पाएगी। किसी भी रचना की यही जीवन दृष्टि लघु को महान बनाती है।  

saving score / loading statistics ...